जाट समुदाय फिर से आंदोलन शुरु करने को मजबूर

खबरें अभी तक। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने चेताया है कि यदि हरियाणा सरकार ने 31 मार्च तक समझौते की शर्ते नहीं लागू कि तो जाट समुदाय फिर से आंदोलन शुरु करने को मजबूर होगा। हिसार के हांसी मे समिति के प्रदेश प्रवक्ता रामभगत मलिक ने कहा है कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली का विरोध करना मुख्य मकसद नहीं था।

बल्कि वे समुदाय की मांगों को पूरा करवाना चाहते थे। मलिक ने कहा कि समिति ने सिर्फ अमित शाह की रैली का विरोध नहीं करने का फैसला लिया है। लेकिन इसके अलावा उनके पूर्व निर्धारित कार्यक्रम पहले की तरह ही होंगे। 18 फरवरी को जिले के गांव रामायण में जाट शहीद दिवस मनाया जाएगा।

Add your comment

Your email address will not be published.